31 जनवरी, 2009

एक छोटी चिडिया

एक छोटी चिडिया शीत ऋतू के कारण दक्षिण देश की ओर जा रही थी, पर ठण्ड ज्यादा होने के कारण वह आसमान से गिर कर एक बड़े मैदान में आ जाती है . जब वह लेटी होती है तो एक गाय उधर से गुज़रती है और उसके ऊपर गोबर कर देती है . ठण्ड से सिकुडी हुई चिडिया को गोबर से गर्मी मिलती है और वह स्वस्थ हो जाती है . अब वो खुशी से गाने लगती है तो उसका गाना सुनकर एक बिल्ली आ जाती है . बिल्ली चिडिया को गोबर से खोज कर निकल लेती है और खा जाती है .
  1. जो आप के ऊपर गोबर फेंके (बुरा व्यव्हार करे ), वो आप दुश्मन है ये बात ग़लत है ।
  2. जो आप को गोबर से निकाल ले (आप की मदद करे ), वो आप का दोस्त हो ये बात भी ग़लत है ।
  3. जब आप गोबर में बैठे है (कष्ट या दुखी हैं ), तो सबसे अच्छा है की आप अपना मुखं बंद रक्खे (किसी से कुछ ना कहे ) .

10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सही कहा आलोक जी !

    ( आप कृपया वर्ड वेरीफिकेशन हटा लें तो टिप्पणी भेजने में हमें आसानी हो जाएगी )

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर…आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आलोक जी ,लौधड़ ,लदह्ड़ =पिछड़ा =बेसऊर एकै सबद होये जौन '' दस कोस पै बदले बानी '' मसल का साबित करत है |

    उत्तर देंहटाएं
  6. उत्तम बात कही आलोक जी
    स्वागत है आपका

    उत्तर देंहटाएं

नमस्कार , आपकी टिप्पणी मेरे प्रयास को सार्थक बनाती हैं .