20 अप्रैल, 2009

गजबे हो जायेगा

एक जजमान कथा सुन रहे थे . पंडित जी ने कथा शुरू होने के पहले ही जजमान को बता दिया था कि कथा के बीच में उठना मना है . जब पंडित जी को कथा बाचते बहुत समय हो गया तो जजमान ने पंडित जी से पूछा "महाराज अगर कथा के बीच में उठना चाहूँ तो क्या उठ सकता हूँ ? ".

पंडित जी बोले "नहीं , जजमान आप कथा के बीच से उठ कर कहीं नहीं जा सकते ".

जजमान बोले "पंडित जी , अगर कोई आवश्यक कार्य हो तो ?".

पंडित जी बोले "नहीं , जजमान अगर ऐसा करेगे तो कथा फलित नहीं होगी ".

जजमान बोले "पंडित जी , अगर लघुशंका जाना हो तो ?".

पंडित जी बोले "तो जजमान आप धीरे से उठ कर चले जाइये और हाथ-पैर धोके, थोड़ासा जल ऊपर छिड़क कर, वापस आके बैठ जाइये "।

जजमान बोले "महराज, अगर दीर्घ शंका जाना हो तो ? "

पंडित जी बोले "जजमान , तबतो गजबे हो जायेगा ".

जजमान बोले "महराज , गजबे करके तो बैठे हुए है , अब बताइए क्या करे ?"

30 टिप्‍पणियां:

  1. समस्त शास्त्र-पुराण यहाँ मौन हो जाते हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इसके बाद पंडित जी ने जजमान से कहा इसके बाद कोई धर्म -पुराण काम नहीं आते है . आनंद आ गया भाई आलोक सिह जी पढ़कर बहुत ही हंसी आ रही है . बहुत बहुत धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब!!लगता है धूप बत्तीयां ज्यादा जल रही थी;))

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाकई गजबे हुई गवा. मजा आ गया.

    उत्तर देंहटाएं
  5. इसका भी प्रावधान है। मंत्रों से शुद्धिकरण कर दिया जाए। गर जजमान उठ गया तो गजबे हो जाएगा ना :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस में इतना घबराना क्या ....दक्षिणा जरा........सब सम्भाल लेगे पंडित जी ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह , महाराज गजब लिखे है , गजबे पढ़ा रहे है !!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. जजमान तो गजब थे , गजब ढा दिए .
    :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. Woowwwwwww.......... That was nice one. Keep it up.... Looking and expecting some more one like this from you.....

    उत्तर देंहटाएं
  10. बस एक यही चीज़ ऐसी है जिस पर कोई बस नहीं................

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाकई में गजब हो गया क्योंकि इस पर किसका वश चलता है!!!

    आपके चिट्ठे को सारथी पर "पसंदीदा चिट्ठे" पर जोड दिया गया है. जरा एक नजर डाल लें

    सस्नेह -- शास्त्री

    हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है
    http://www.Sarathi.info

    उत्तर देंहटाएं
  12. यार हंसा हंसा कर फंसा रहे हो.

    उत्तर देंहटाएं
  13. Dear Alok ,very good chutkula no doubt,almost all the posts are good and full of laughter.
    I also hail from Pratapgarh sadar and working as professor atRewa in mp govt PG.College and research centre. my best wishes
    yours
    Dr.Bhoopendra
    email bksrewa@gmail.com 9425898136

    उत्तर देंहटाएं
  14. aalok ji aap ne sahi tippni ki h.... me is badlov ko swikar karne ki kosis kar raha hoon.sirf itna ki ye badlav me kuch chizen gum ho gai hain.

    aachcha ye shavd pushtikaran hatane ki pirkiriya batayenge, kirpa hogi....

    swapnil

    उत्तर देंहटाएं
  15. badhiya hai...........kabhi kabhar hi aisa kuch padhne main aata hai....dhanyawaad

    उत्तर देंहटाएं
  16. Uff ! Ab iske aage koyi kya kahega...?

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://lalitlekh.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://shama-kahanee.blogspot.com

    http://shama-baagwaanee.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

नमस्कार , आपकी टिप्पणी मेरे प्रयास को सार्थक बनाती हैं .