28 मार्च, 2009

हँसना मना है

ताऊ को कई दिन से धमकी भरे फ़ोन मिल रहे थे , तो उन्होंने इस बारे में पुलिस को बताना ठीक समझा .
ताऊ (पुलिस से)- मुझे फोन पर धमकियां मिल रही है।
पुलिस (ताऊ से)- कौन है जो आपको धमकियां दे रहा है?
ताऊ (पुलिस से)-टेलीफोन वाले बोल रहे हैं बिल नहीं भरोंगे तो काट दूंगा।

एक दिन एक भिखारी ताऊ को मिल गया
भिखारी (ताऊ से)- पचास पैसे दे दो भैया, मैंने तीन दिन से खाना नहीं खाया है।
ताऊ (भिखारी से)- दस रुपये दूंगा, पहले ये तो बता पचास पैसे में खाना कहां मिलता है।

एक दिन राज जी ने ताऊ से पूछा
राज जी (ताऊ से)- अगले जन्म में तुम किस रूप में पैदा होना चाहोगे?
ताऊ (राज जी से)- कॉकरोच बनकर।
राज जी - वो क्यूं?
ताऊ - क्योंकि मेरी पत्नी(ताई ) केवल कॉकरोच से ही डरती है।

रामप्यारी को तो आप जानते ही पढ़ने में तो उसका मन लगता ही पर दिमाग बहुत चलता है .
मास्टर (रामप्यारी से )- मेरे एक प्रश्न का उत्तर दो, बताओ अंडा पहले आया था या मुर्गी?
रामप्यारी (मास्टर से)- अंडा
मास्टर (रामप्यारी से)- कैसे बताओ?
रामप्यारी (मास्टर से)- सर, यह तो दूसरा प्रश्न पूछ डाला।

सुरेंद्र जी तो आप को याद ही होंगे वो इलाहबाद से रायबरेली वाले , उनकी पत्नी ने उनसे पूछा
पत्नी (सुरेंद्र जी से)- अगर मैं मर जांऊ तो क्या तुम्हें बहुत दुख होगा?
सुरेंद्र जी (पत्नी से)- हां, दुख तो होगा ही।
पत्नी (सुरेंद्र जी से)- क्या तुम कभी-कभी मेरी कब्र पा आया करोगे?
सुरेंद्र जी (पत्नी से)-कभी-कभी क्यों रोज ही आया करूंगा। कब्रिस्तान मेरे दफ्तर के पास ही तो पड़ता है।

एक दिन रात को सुरेन्द्र जी अकेले घर जा रहे थे, रास्ते में पुलिसवाला मिल गया .
पुलिस (सुरेन्द्र जी से)- रात के 1 बजे तुम कहां जा रहे हो?
सुरेन्द्र जी (पुलिस से)- मैं शराब पीने के दुष्परिणाम पर भाषण सुनने जा रहा हूं।
पुलिस (सुरेन्द्र जी से)-इतनी रात मैं तुम्हे कौन भाषण देगा?
सुरेन्द्र जी (पुलिस से)- मेरी बीवी।

एक दिन रास्ते में दिवेदी जी (वकील साहब ) को एक भिखारी मिल गया .
भिखारी (वकील साहब से)- बाबू कुछ पैसे दे दो।
वकील साहब (भिखारी से)- अरे भई, मोटे तगड़े हो, कुछ काम क्यों नहीं करते?
भिखारी (वकील साहब से)- मैंने पैसे मांगे है, सलाह नहीं।

एक दिन बस में
मैं (जेबकतरे को)- तुम्हें शर्म नही आती, मेरी जेब काटते हो?
जेबकतरा (मुझसे से)- शर्म तो आपको आनी चाहिए जेब में एक पैसा भी नही रखते।
(साभार जागरण )

20 टिप्‍पणियां:

  1. वाह जोरदार चुटकुले हैं। खासकर ताऊ वाले चुटकुलों के क्‍या कहने...आखिर वे हमारे ब्‍लॉगजगत के चाचा चौधरी जो ठहरे। शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा लपेटा ब्लागरों को आलोक भाई । और लिख दिया हसना मना है । पर कैसे ? हा हा मजा आ गया

    उत्तर देंहटाएं
  3. हा हा हा
    बहुत खूब शर्म तो आपको आनी चाहिए जेब में एक पैसा भी नही रखते.
    मजेदार चुटकुले

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ताऊ तो कमाल के है
    दस रुपये दूंगा, पहले ये तो बता पचास पैसे में खाना कहां मिलता है
    बहुत मजा आया
    :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. हा हा हा हा बहुत सुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं
  6. चुन चुन के चटका रए हो भाई
    आनंद ही आनंद है जी

    उत्तर देंहटाएं
  7. घणे सुथरे किस्से सुणाये भाई आज तो. लगे रहिये.:)

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं
  8. आलोक भाई मजा आ गया आप के चुटकले पढ कर, अरे ताऊ को बता दो १० पेसे मै भी भर पॆट खाना मिलता है ?? अरे गुरु दुवारे मै... वहां १० पेसे चढा कर पांच रुपये के छुट्टे ऊठा लो साथ मै खाना फ़्रि मै... राम राम जी की

    उत्तर देंहटाएं
  9. बोहत ही बढिया.....लेकिन भई,आपकी न हंसने वाली शर्त हमें स्वीकार नहीं.जब इत्ते बढिया चुटकुले सुनाईगे तो हंसी काहे नहीं आऎगी.

    उत्तर देंहटाएं
  10. देख लिया आलोक जी भाटिया जी भी हरियाणा के हैं खाना विद दक्षिणा बहरहाल अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  11. मजा आ गया आलोक जी.......
    चेहरे पर मुस्कान आ गयी, चुटकले सफल हो गए

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपने कहा हंसना मना है.. लेकिन मैं हंसे बगैर नहीं रह सका.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. गलत लिखा हंसना मना है......
    हा...हा....हा...काफी रोचक है.

    उत्तर देंहटाएं

नमस्कार , आपकी टिप्पणी मेरे प्रयास को सार्थक बनाती हैं .