24 मार्च, 2009

हे हर हार आहार सुत


हे हर हार आहार सुत विनय करू कर जोर !
एक छोटी सी विनती सुनो तुम मोर !!

कितने सारे लोग लिख रहे नित्य नूतन लेख !
राम का नाम लेके लिखो आप भी आलेख !!

मिल गयी लेख पर टिप्पणिया तो समझे लंका जराये !
नहीं मिली अगर तो समझो बिन बूटीवाला पर्वत लाये !!

बहुत हुआ रथ के ऊपर बैठ देखत नजारा !
दिखाओ सारथी को अपना अतुलित बल सारा !!

उड़न खटोले बहुत उड़ गए आकाश में !
तुम भी अपना पवन वेग दिखाओ इस संसार में !!

कोई बैठा दूर देश में करता है राज !
दिखा दो आप भी अपना कौशल दुनिया को आज !!

नर-वानर, कुत्ते-बिल्ल्लियाँ और शिशु लिखते नित्य नए लेख !
आप भी एक रामनामा लिख कर करो श्री गणेश !!

प्रभु फुरसत से अब बैठो नहीं शुरू करो आलेख !
मंदी के दौर में भी दिन-प्रतिदिन वृद्धि कर रहे लेख !!

बहुत लिख दिया लोगों ने लेख नए ज्ञान के !
आप भी एक प्रहार करो बने क्यों हो अज्ञान से !!

पूजा-अर्चना बहुत हो गयी श्री राम की !
एक रचना लिखो फिर सुध रहेगी आराम की !!

आप भी अपना एक चिट्ठा ले आओ इस जगत में !
फिर उस पर अनुसरन करवाओ अपने भगत से !!

अपने लेखो को ब्लोगवाणी में सबसे पसंद करवाओ !
और चिट्ठा जगत में धुरन्धर लिक्खाड़ कहलवाओ !!

यह छोटी सी विनती सुनो तुम मोर !
हे हर हार आहार सुत विनय करू कर जोर !!

9 टिप्‍पणियां:

  1. आलोक भईया क्या तेवर बदला । कविया गये आप भी । लो अब हमले कर दिया है आप पर टिपया दिये और चटका दिया । यह रोग अच्छा लगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बजरंग बली जरूर भली करेंगे।
    वैसे भोले नाथ से भी अरदास करने पर जल्दी सुनी जाती है। औघड़दानी हैं बाबा विश्वनाथ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बाबा आलोक सिंह की जे........
    जे श्री राम, स्तुति अति सुन्दर है

    उत्तर देंहटाएं
  4. हे बाबा आलोख आपका आलोक सबके मन को प्रफ़ुल्लित करता है.
    बस आप तो शुरु रहो.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आलोक भाई बहुत ही सुंदर , आज से आप को संत आलोक ही कहे गे.
    धन्यवाद संत आलोक जी

    उत्तर देंहटाएं
  6. बाबा आलोक की जय हो , बाबा ये हे हर हार आहार सुत का मतलब हनुमान जी कैसे हुआ , समझ में नहीं आया , कुछ ज्ञान दे बाबा .

    उत्तर देंहटाएं
  7. लखबीर जी जैसा आपने पूछा हे हर हार आहार सुत का अर्थ हनुमान कैसे हुआ .
    हे - सम्बोधन
    हर - महादेव शंकर
    हार - शंकर जी की गले का हार सर्प (सांप )
    आहार - सर्प का आहार वायु (ऐसा कई साहित्यकार मानते है )
    सुत - पुत्र
    अर्थात पवन पुत्र श्री हनुमान जी .

    उत्तर देंहटाएं
  8. भगवान को भी नहीं छोडा. लगे रहो भाई .....
    राम भली करेगे

    उत्तर देंहटाएं

नमस्कार , आपकी टिप्पणी मेरे प्रयास को सार्थक बनाती हैं .